क्यूट वेलेंटाईन कथा (Cute Valentine Story)

हमारे परममित्र (सुरक्षा कारणों से नाम गुप्त रखा गया है) हमेशा की तरह आॅफिस में बिना इंसेटिव के ओवरटाईम करके लौट रहे थे। वही पुराना मेट्रो, वही पुरानी भीड़, वही पुराना कार्बन डाई आॅक्साईड (और कोपियस अमाउंट आॅफ मीथेन) छोड़ते लोग…

सब कुछ उसी आम दिन की तरह था जैसा कि एक आम काॅर्पोरेट ग़ुलाम की ज़िंदगी में होता है। बेचारा रोज़ पिसता है। प्रमोशन के नाम पर अलाय-बलाय (बुलशिट) पोस्ट क्रिएट करके, एम्प्लायी आॅफ द मंथ देके, वीकली ‘फन एट वर्क’ करा करके, गिफ़्ट में किताब देकर इन्हें हमेशा मूर्ख बनाया जाता है।

फिर आप भगवान पर विश्वास करना छोड़ने लगते हैं, “व्हाट द हेल इज़ गोईंग आॅन? एम आय अ फकिंग मोराॅन? दे आर एक्सप्लायटिंग मी मेन!”

ख़ैर, आज जब हमारा नायक मेट्रो की भीड़ से उतरता है तो ‘एक्सक्यूज मीऽऽऽ’ की लंबी आवाज़ सुनता है। और इग्नोर कर देता है क्योंकि वो जानता है कि ये उसके लिए नहीं है। क्योंकि स्कूल में जूनियर्स या उसके कुछ बातों से ग़ुस्सा होकर कुछ लड़कियों को छोड़कर किसी ने भी ये फ्रेज उसके लिए नहीं बोला था।

हमारा नायक मस्त चलता जा रहा है। मीठी आवाज़, थोड़ी देर तक ड्रैग होती हुई, दोबारा पहुँचती है, “एक्सक्यूज मीऽऽऽऽऽ….” और नायक फिर अपने आप को पोटेंशियली आउट आॅफ द गेम मानकर चलता रहता है। ना, ना… हमारा नायक कान में इयरफोन नहीं लगाता। आॅव्ज़र्वर है, रोज़ एक स्टेटस विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन पहुँचने से पहले मेट्रो के लोगों पर ज़रूर डालता है।

“एक्सक्यूज मीऽऽऽऽऽ….” एक ख़ूबसूरत नारी अचानक से उसके सामने आती है। नायक को अभी भी विश्वास नहीं हो रहा बावजूद इसके की वो अकेला ही सीढ़ियों से चढ़ रहा था।

“आर यू टाॅकिंग टू मी?” नायक काॅन्फिडेंस से अनजान लड़की से पूछता है। और टोटली ‘प्लेईंग ईट कूल’ और ‘आई मीट गर्ल्स एवरी डे’ वाले एटीट्यूड से देखता है।

अभी भी उसे विश्वास नहीं हो रहा कि लड़की उसी से मुख़ातिब है। इधर उधर दोबारा देखता है। अब तो भाई कोई नहीं है। बस वही दो लोग हैं। एक बार पीछे मुड़ता है, कोई नहीं है।

“आई हैव बीन फाॅलोईंग यू” ये कहकर उसने एक लाल गुलाब थमा दिया।

लगता है भगवान साल भर से प्लान पर काम कर रहे थे और सही मौक़ा ढूँढ रहे थे।

हमारे मित्र का अपडेट आया है: मिरेकल डू हैप्पेन गाय्ज!

Read on the other six days of the Valentine week:

Rose day | Propose day | Chocolate day | Teddy day | Promise day | Hug day | Kiss day

Advertisements

Did you like the post, how about giving your views...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s