कुछ बातें (A Few Words)

कल रात भी लिखीं थी कुछ बातें बस तेरे लिए जो सोचा था बस तेरे लिए जब देखे थे चंद ख़्वाब जहाँ हम और तुम बैठे थे झील में उतरती हुई लकड़ी के पुलिए पर पाँव लटकाए बातें करते तमाम दुनिया की जो परे है इस दुनिया से इसकी समझ से उन शब्दों में जो… Continue reading कुछ बातें (A Few Words)

खोया हिस्सा

‘खोया हिस्सा’ कहाँ समझी तुमने वो पंक्तियाँ जो मैंने लिखी थीं तुम्हारे न होने पर तुम्हारी यादों ने पकड़ी थी मेरी ऊँगलियाँ और लिखवाए थे वो चंद शब्द। मैं ख़ाली मकानों में वीरान सड़कों पर नंगी भीड़ में हर जगह तुम्हारे पाँव की आवाज़ ढूँढता हूँ और ढूँढता हूँ अपने वजूद के उस हिस्से को… Continue reading खोया हिस्सा

Feel that feeling, my love

Feel that I love you Feel that we loved each other Feel that feeling when you held me tight Never to let me go That embrace of yours Strong yet soft Hot yet mildly warm Feel that feeling, my lover girl When there were us And us alone Far from those judging eyes Prying gazes… Continue reading Feel that feeling, my love

Once More

As my world ends, And I wander in the Landscapes unknown, Territories beyond reality And beyond conscious In the falling droplets of rain On a landscape bleached in the Glowing sun Facing a calm moon, In the backdrop of a rainbow With numerous colours Reflected in the deep memories Of you holding my hand Dissolving… Continue reading Once More