नहीं बैसाखनंदन, मोदी की विदेश यात्राओं से ग़रीबी नहीं मिटी…

ना ही किसानों के घर में मरे बाप और भाई लौट कर आने लगे, ना ही दाल के भाव कम हो गए, ना ही सड़कों के गड्ढे भर गए, ना ही दंगे बंद हुए, ना ही निचली जातियों के दिन फिर गए…

Advertisements

सरकारों का जश्नी विज्ञापण ब्लिट्ज़क्रेग कहाँ तक उचित है?

हर गाँव के सबसे ग़रीब घर की माँ को जब बिना कंकड़ के गेहूँ-चावल, हर महीने, उचित मात्रा में मिले, जिसे खाकर उसका बच्चा सरकारी स्कूल में एक अच्छी शिक्षा पाए और पास के अस्पताल में बुखार होने पर दवा पा ले, और ज़िंदा रहे, तब आपकी या कोई भी सरकार सफल मानी जाएगी।

Rajdeep Sardesai: Prejudiced reporter got slapped

I just saw the Headlines Today programme which Rajdeep Sardesai was covering. It is on YouTube. An editor of his stature, is seen fist fighting, and asking questions which are heavily prejudiced. In another video he is seen arguing with a man, and when things heat up he is seen leaving the scene and immediately… Continue reading Rajdeep Sardesai: Prejudiced reporter got slapped

The tsuNaMo: Why Modi won

When the General Elections 2014 were imminent, there were two things that India was going through: general mass frustrated with the everyday scams not to forget a dwindling economy and rising inflation making its life troubling; and a search for an alternate form of governance. Aam Aadmi Party (AAP), the seeds sawed by Anna movement… Continue reading The tsuNaMo: Why Modi won